महाराज साहब और कर्मयोगी शास्त्रीजी की कर्मभूमि में राजनीति की सुचिता हरहाल मे बरकरार रखेंगे-राजेन्द्र शुक्ल


महाराज साहब और कर्मयोगी शास्त्रीजी की कर्मभूमि में राजनीति का अपराधीकरण हरगिज नहीं होने देंगे!

रीवा26नवंबर। भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी राजेन्द्र शुक्ल ने आज मतदाताओं से आह्वान किया कि महाराज मार्तण्ड सिंह और कर्मयोगी यमुना प्रसाद शास्त्री की कर्मभूमि रीवा से अराजक और अपराधिक राजनीति को ऐसा करारा जवाब दें कि वह कभी निकट भविष्य में यहां पैर जमाने की सोच भी न सके।

श्री शुक्ल ने आज अपनी संपर्क सभाओं में फिर दोहराया कि रीवा विधानसभा क्षेत्र के चुनाव के साथ पीढियों का भविष्य जुड़ा है इसलिए ऐसा दृढ़संकल्प लेना जरूरी है। उन्होंने कहा कि आज देश के बड़े शहरों में पढ़ने और जाँब करने वाले हमारे बच्चे वहां गर्व के साथ अपना परिचय देते हैं कि हम उसी रीवा के वासी हैं जहाँ दुनिया की पहली ह्वाइट टाइगर सफारी है, जहाँ विश्व का सबसे बड़ा सोलर पार्क है।

श्री शुक्ल ने कहा की रीवा की राजनीति के साथ महाराजा मार्तण्ड सिंह का आशीर्वाद और कर्मयोगी यमुना प्रसाद शास्त्री की तपस्या जुड़ी है। रीवा की राजनीतिक संस्कृति का भोपाल दिल्ली में उच्च और सम्मानजनक स्थान प्राप्त है इसकी पवित्रता को बचाए रखने की जिम्मेदारी हमसब की है। श्री शुक्ल ने नागरिकों से सवाल किया कि क्या राजनीति की इस अनमोल विरासत को अराजक और अपराधी तत्वों के हवाले करने के लिए कोई सपने में सोच भी सकता है? हमें अपने बच्चों से इसका जवाब पूछना चाहिए जो कल रीवा की कीर्ति के ध्वजवाहक बनेंगे।

श्री शुक्ल ने कहा आपने मुझे अपना विश्वास दिया, मुझे इस काबिल बनाया कि विश्व की पहली सफेद शेर सफारी महाराजा मार्तण्ड सिंह जूदेव की स्मृति में समर्पित कर सका। चार दशक बाद रीवा का गौरव लौट पाया। उन्होंने कहा कि इंदौर-भोपाल रेल ओवर ब्रिज तो थे लेकिन पहला फ्लाईओवर बनाने का श्रेय रीवा को हाँसिल हुआ यह काम प्रदेश के महानगरों में अब पूरे हो रहे हैं। श्री शुक्ल ने कहा कि इस फ्लाईओवर को महान कर्मयोगी यमुना प्रसाद शास्त्री के नाम समर्पित किया है।

राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि उन्होंने विकास के मामलों में हमेशा राजनीति से ऊपर उठकर सोचा है और रीवा की उन्नति के लिए हर तरह के श्रेष्ठ विचारों का स्वागत किया है। भाजपा प्रत्याशी ने कहा कि रीवा अपनी राजनीतिक और वैचारिक तेजस्विता के लिए जाना जाता है। इतिहास गवाह है कि यहां के विवेकशील और जागरुक नागरिकों ने कभी भी अराजक,असामाजिक और अपराधिक तत्वों को प्रश्रय नहीं दिया है। भाजपा प्रत्याशी ने कहा कि यह सहज बात नहीं कि विकास विरोधी तत्व चुनाव में ताल ठोंकें और हम उन्हें जवाब न दें।

श्री शुक्ल ने दोहराया कि यह चुनाव रीवा की आन-बान-शान और स्वाभिमान का है। रीवा के स्वाभिमान का पताका फहराए रखने की जिम्मेदारी इस शहर के प्रत्येक नागरिकों की है और इसे अब सभी अच्छे से समझ भी चुके हैं।

Facebook Comments
0 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *